समुद्र को प्रदूषित करने वाली आठ नदियां

6
50

समुद्र को प्रदूषित करने वाली आठ नदियां 

समुद्र को प्रदूषित करने वाली आठ नदियां सबकी सब एशियाई नदियां हैं।

जी हां दोस्तों, दुनिया भर के समुद्र में बहने वाला

95% प्लास्टिक कचरा केवल 10 नदियों से ही निकलता है।

सबसे हैरानी की बात यह है कि इनमें भी जो सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलाती हैं,

उनमें गंगा और सिंधु सहित आठ नदियां केवल एशियाई नदियां हैं।

यह दावा या कथन कोई मनगढंत कहानी नहीं है।

यह एक रिपोर्ट का निष्कर्ष है जिसे तैयार किया है

जर्मनी  स्थित  हेल्महोत्ज् सेंटर फार  एन वायरोन मेंटल रिसर्च यानी UFZ ने। 

सबसे ज्यादा समुद्री प्रदूषण फैलाने वाली नदियां 

सबसे ज्यादा समुद्री जनजीवन को प्रदूषण की मार से प्रभावित, 

करने वाली नदियों में,एक दो नहीं पूरी आठ नदी हैं

जिनमें समुद्र का 95%प्लास्टिक कचरा बहता है। जिनका विवरण इस प्रकार है :

🔴यांग्त्जे यह एशिया के पूर्वी चीन सागर में है। 

🔴सिंधु यह एशिया अरब सागर में स्थित है। 

🔴ह्वांगहो यह पीला सागर एशिया में स्थित है। 

🔴हाय हे यह भी एशिया के पीला सागर में है। 

🔴नील यह अफ्रीकी भूमध्य सागर में है। 

🔴गंगा यह बंगाल की खाड़ी में है। 

🔴मोती यह एशिया दक्षिण चीन सागर में है। 

🔴अमूर यह ओखोत्स्क व जापान सागर में है। 

🔴नाइजर यह अफ्रीकी गिनी सागर में स्थित है। 

🔴मेकांग यह दक्षिण चीन सागर में स्थित है। 

नदियाँ और प्लास्टिक का प्रकोप

🔴दुनिया भर के समुद्र में इस समय 2.27 करोड़

      खरब किलोग्राम प्लास्टिक कचरा तैर रहा है।

🔴3.297अरब किलोग्राम कचरा यांग्त्जे और

0.54 अरब किलोग्राम कचरा हर साल समुद्र में गंगा से आता है।

🔴विशेषज्ञ कहते हैं कि यदि इन 10 नदियों के

प्रदूषण को नियंत्रित कर लिया जाए तो समुद्र के

प्रदूषण को 50 %तक कम किया जा सकता है। 

समुद्र में मछली से ज्यादा कचरा 

🔴80 लाख टन औसतन प्लास्टिक कचरा हर वर्ष समुद्र में पहुंचता है।

🔴आपको आश्चर्य होगा कि इसे यदि व्यावहारिक गणित की भाषा में कहें,

🔴तो इसका मतलब यह हुआ कि हम समुद्र में

नदियों के जरिए प्रति मिनट एक ट्रक कचरा नि:संकोच बहाते हैं।

🔴यह आंकड़ा दो ट्रक कचरा प्रति मिनट 2030 तक हो जाएगा।

🔴2050 तक मछलियों से ज्यादा समुद्र में कचरा हो जाएगा। 

बढता प्लास्टिक उत्पादन 

🔴1964 में प्लास्टिक का उत्पादन जितना भी था

आज उसका बीस गुना बढकर 2014 में ही पूरी

दुनिया में 31.1करोड टन टन सालाना हुआ है।

🔴केवल 5%प्लास्टिक का पुनर्चक्रण होता है। 33%समुद्र में बह जाता है।

40%भराव वाली जगहों प्लास्टिक सडता रहता है।

🔴पूरी दुनिया में 10 लाख प्लास्टिक की बोतलें केवल एक मिनट में बिकती हैं।

🔴यह शोध 57 नदियों के आसपास मौजूद 79

    इकाइयों से पैदा होने वाले प्लास्टिक कचरे के          विश्लेषण पर आधारित है। 

समुद्री कचरे में सर्वाधिक योगदान 

साफ शब्दों में कहें तो यह खिताब चीन के नाम है।

क्योंकि समुद्र में 50%से ज्यादा प्लास्टिक कचरा

चीन, इंडोनेशिया, फिलीपींस, वियतनाम, श्रीलंका से आता है।

24 लाख टन प्लास्टिक कचरा केवल चीन से आता है यानी दुनिया का 28%।

हर रोज भारत से निकलने वाला प्लास्टिक कचरा 15.342 लाख टन है। 

फर्क क्या पड़ेगा 

🔴10 लाख समुद्री पक्षी, 1लाख स्तन पायी जीव

🔴करोड़ों मछलियां हर साल प्लास्टिक के कचरे 🔴की वजह से दम तोड़ देती हैं। 

 

धन्यवाद

KPSINGH 25052018

6 COMMENTS

  1. जीवन को स्वस्थ और सुखमय बनाने के लिए प्रदूषण मुक्त होना आवश्यक है |लोगों को जागरूक करने के लिए उत्तम पोस्ट है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here