भारत के पवित्र स्थल जहां आज भी वर्जित है महिलाओं का प्रवेश

3
52

 

 

भारत का पवित्र स्थल जहाँ भी आज भी वर्जित है महिला का प्रवेश

 

भारत का पवित्र स्थल जहाँ भी आज भी वर्जित है महिला का प्रवेश

जी हां दोस्तों,

अगर आप को लगता है कि भारत में शबरी माला मंदिर, शनि शिंगणापुर और हजी अली की दरगाह में,

महिलाओं के जद्दोज़हद के बाद मिले प्रवेश से भारत में इस समस्या का समाधान हो गया है,

तो आप गलत सोच रहे हैं

क्योंकि एक नहीं कई ऐसे प्रसिद्ध और पवित्र स्थल हैं , भारत में जहां

आज भी महिलाओं का प्रवेश अस्वीकृत है

भारत के तामम पवित्र स्थलों में आज भी महिलाओं के साथ अजीब व्यवहार किया जाता है।

यानी भारत के पवित्र स्थलों में यदि महिलाएं सहराग करना चाहते हैं तो यह वर्जित

नहीं बदली तस्वीर और तस्दीर

भारत का पवित्र स्थल जहां महिलाओं का प्रवेश अस्वीकृत है, पहले उनमें हजी अली दरगाह, शबरी माला मंदिर, शनि शिंगणापुर के नाम भी शामिल थे।

लेकिन तृप्ति देसाई, नूर जहां नियाज, बीबी खाना आदि की कोशिश से,

आज इनका नाम भारत के उन पवित्र स्थलों की सूची से दूर है जहां महिला का प्रवेश वर्जित है।

मगर जितना हंस होना चाहिए उतना ऐसा नहीं है,

क्योंकि आज भी भारत में बहुत से ऐसे पवित्र स्थल मौजूद हैं, जहां महिलाएं काटी नहीं जा सकेंं।

तो आइए जानते हैं भारत के उन पवित्र स्थलों के बारे में जहां आज भी महिलाओं का प्रवेश वर्जित है कुछ इस तरह:

कार्तिकेय मंदिर पुष्कर

यहां पर भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय के ब्रह्मचारी रूप की पूजा होती है।

इसीलिए यहां महिलाओं का प्रवेश वर्जित है

भगवान् कार्तिकेय के रूप में इस रूप में हरियाणा के पैहोवा में स्थित एक मंदिर में भी पूजा होती है।

लेकिन महिलाओं का प्रवेश दोनों जगह वर्जित है।

रनकपुर जैन मंदिर

भारत का पवित्र स्थल जहां महिलाओं का प्रवेश आज भी वर्जित है

उनमें कुछ प्रमुख नामों में अगला नाम है Rajasthan की पली में स्थित रनकपुर जैन मंदिर का

इस मंदिर में कोई भी महिला मासिक धर्म के दौरान प्रवेश नहीं किया जा सकता है।

लेकिन जहां तक ​​सामान्य दिन की बात है

तो यहां तक ​​कि,

किसी महिला का प्रवेश अस्वीकृत है अगर वह एड़ी तक के कपड़े नहीं पहन रखा है।

महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर

भारत का पवित्र स्थल जहां महिलाओं का प्रवेश वर्जित है,

उनमें से एक नाम महाराष्ट्र कोल्हापुर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर का भी है

यहां पर मंदिर की गर्भगृह में पुरुषों और महिलाओं दोनों ही,

जाने की इजाजत नहीं है

मंदिर प्रशासन का तर्क है कि ऐसा भीड़ को कोबा में रखना वस्ता किया जाता है।

पद्मनाभ मंदिर थरुवन्तपुरम

भारत का वह पवित्र स्थल जहां महिला का प्रवेश अस्वीकृत है,

उनमे एक नाम थरुवनंतपुरम स्थित भगवान् विष्णु का मंदिर है।

याद रखें इस मंदिर में विश्व के सबसे सम्पूर्ण हिंदू मंदिरों में एक है।

इसके बाद भी न केवल यहां पर केवल हिन्दू जा सकते हैं,

बल्कि इन में भी केवल हिन्दू मंदिर का प्रवेश का हक रख रखना है।

मजेदार यह भी है कि इस मंदिर का एक ड्रेस कोड भी है

इस मंदिर में महिलाओं को प्रवेश न देने का कारण यहां का खजाना बताया जाता है।

 

पतबाउसी सत्र असम

भारत के जिन पवित्र स्थलों में किसी महिला का प्रवेश निषेध है,

उन स्थलों में एक असम का यह मंदिर भी शामिल है।

इस मंदिर में पवित्रता को बनाए रखने के कारण में महिलाओं का प्रवेश अस्वीकृत है।

2010 में आसाम के राज्यपाल जे बी पटनायक ने 20 महिलाओं को मंदिरों में जाने दिया

सोचा गया था शायद,

इस पहल से इस मंदिर में महिला निषेध खत्म हो गया है

लेकिन आज भी स्थिति है उसी का है

अन्य पवित्र स्थल

दिल्ली स्थित हजरत निजामुद्दीन और पंजाब की सर हिंद शरीफ में महिलाओं के दरगाह में जाने से रोक है।

इतना ही नहीं सभी दरगाह में किसी महिला को चादरों की चढ़ाई के हक नहीं है।

शायद तुम पता नहीं हो दिल्ली की जामा मस्जिद में,

सूर्यास्त के बाद महिलाओं का प्रवेश पूर्णतःह से वर्जित है।

मध्यप्रदेश का मुक्ता गिरि मंदिर ऐसा भारत का पवित्र स्थल है,

जहां कोई  भी महिला पश्चिमी फैशन के कपड़े पहन कर  नहीं जा सकती।

धन्यवाद

लेखक: के पी सिंह “किरितीखेड़ा”

11032018

 

 

3 COMMENTS

  1. आज भी अंध विश्वास कही न कही देखने को मिलता है।

  2. रहस्य हर जगह कुछ न कुछ होता है,
    दुनिया रहस्यमयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here