भारत की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5

3
88

भारत की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि – 5

भारत की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि 5 की कहानी इस प्रकार है।

परमाणु क्षमता वाली स्वदेश निर्मित बैलिस्टिक मिसाइल, 

अग्नि – 5 का छठवां परीक्षण बेहद सफल रहा है।

परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम बैलिस्टिक मिसाइल, 

अग्नि पांच का छठा परीक्षण रविवार 03जून को हुआ है।

बालासोर उड़ीसा की विश्वसनीय  व सही खबरों के मुताबिक,

इसकी मारक क्षमता है पांच हजार किलोमीटर।

जब कि इस मिसाइल का कुल भार है पचास टन।

इसकी लम्बाई है 17 मी, तथा इसकी चौ 2 मी है।

ताज्जुब की बात है कि इस मिसाइल से चीन की इतनी बौखलाहट बढ़ गई है

कि 5000 को भी वह 8000 से कम मानने को कतई तैयार नहीं है। 

अग्नि पांच की जद में आए पाकिस्तान और चीन 

भारत की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि पांच की जद में,

पाकिस्तान  और चीन के आ जाने  से इस अंतर महा द्वीपीय मिसाइल,

अग्नि – पांच का सामरिक व राजनीतिक महत्त्व बढ गया है।

चीनी विश्लेषकों का एक सुर में यह कहना कि इस की मारक क्षमता 8000 हो सकती है।

इसी बात का सुखद प्रमाण है कि अग्नि पांच आज बेहतरीन उपलब्धि है।

भारत ने रविवार 3 जून2018 को इसका छठा

परीक्षण करते ही दुनिया की महाशक्ति क्लब में शामिल हो गया है।

अगर आप अभी महाशक्ति क्लब में शामिल सदस्यों की बात करें तो,

अभी इसमें अमेरिका, रूस, फ्रांस और चीन हीशामिल थे, 

लेकिन अब इस महाशक्ति क्लब का अगला नाम भारत है। 

अग्नि पांच का छठवां परीक्षण 

भारत की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि पांच का छठा परीक्षण,

उडीसा के बालासोर जिले में अब्दुल कलाम द्वीप

या ह्वीलर द्वीप के 4 नम्बर लांचिंग पैड से सुबह 9 बजकर 48 मिनट पर किया गया।

लांच करने के बाद ही यह सीधी उड़ान भरने लगी थी।

ध्यान रहे कि उडान के दौरान इसके अनेक मान दंडों का परीक्षण किया गया।

वैज्ञानिकों के अनुसार इस परीक्षण के बाद ही

भारत की जद में आधा यूरोप आ गया है।

अपने छठवें परीक्षण के दौरान मिसाइल ने हिंद

महासागर में अपना लक्ष्य हासिल किया है।

अग्नि पांच के परीक्षण के दौरान अब्दुल कलाम

द्वीप में डीआरडीओ से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी व

वैज्ञानिकों का एक दल मौजूद था।

विशेषज्ञों का मानना है कि भारत की स्वदेशी बैलि स्टिक मिसाइल अग्नि पांच,

वास्तव में चीन की मिसाइल दंड पेंग (क) को जवाब देने में सक्षम है। 

अग्नि के परीक्षण कब कब? 

भारत की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि पांच का यह छठवां परीक्षण था,

इसके पहले अग्नि के अन्य पांच परीक्षण किए जा चुके हैं।

इनका काल विवरण इस  प्रकार है :

🔴अग्नि पांच का पहला परीक्षण 2012 में और दूसरा परीक्षण 2013 में हुआ है।

🔴अग्नि पांच का  तीसरा परीक्षण 2015 में वहीं चौथा परीक्षण 2016 में हुआ था।

🔴इसका पांचवां परीक्षण जनवरी 2018 में इसी वर्ष हुआ था।

🔴भारतीय  बेड़े में शामिल  और भारत की सबसे

शक्तिशाली मिसाइल अग्नि पांच को पूरी दुनिया

जानती है यह हम भारतीयों के लिए गर्व की बात है। 

अग्नि पांच की खास खूबियां 

🔴भारत की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि पांच की सबसे बड़ी विशेषता,

यह है कि अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस के बाद भारत,.

इस क्लब में शामिल होने वाला पांचवां देश है।

🔴यह मिसाइल केवल 20 मिनट में 5000

किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है।

🔴पूरा एशिया, अफ्रीका तथा यूरोप का अधिकांश भाग इसकी जद में हैं।

🔴मिसाइल एक बार में 1000 किलोग्राम का पेलोड ले जा सकती है।

 🔴यह भारत की सबसे लम्बी दूरी  की मिसाइल है। 

 

धन्यवाद  

KPSINGH 04062018

 

 

 

 

 

 

 

 

 

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here