मानव की महान खोजें जिनसे बदल गई दुनिया

8
102

मानव की महान खोजें जिनसे बदल गई  दुनिया

मानव की महान खोजों की लिस्ट यद्यपि छोटी नहीं है, बहुत बड़ी हो गई है

परन्तु जब हम उन खोजों के बारे में सोचते हैं, जिनसे दुनिया में बदल जाता है तो कुछ भी कहने का मन करता है

जी हां दोस्तों आज भी विश्व बनाने वाले भी दुनिया को देखते हैं तो शायद पहचान नहीं है।

मनुष्य ने दुनिया में आम परिवर्तन किया है।

यहां पर कुछ ऐसे ही मानव की महान उपलब्धि के बारे में चर्चा करने से जो दुनिया ही बदल गया है।

सौर मंडल की खोज

सौर मंडल की खोज या सौर मंडल सिद्धांत बेहद खास है।

1543 में पोलैंड के खगोलशाश्री निकोलस कोपरनिकस ने यह सिद्धांत दिया था कि सूर्य सौर मंडल के केंद्र में है।

यह एक स्थिर वस्तु है। सभी ग्रहों के चारों ओर चककर लगाए हैं।

इस सिद्धांत के पहले विश्वभर में विद्वानों ने यह मान लिया था कि पृथ्वी इस विश्व के केंद्र में है।

सूर्य धरती का चक्कर लगाता है।

गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत

मानव की महानतम खोजों में गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत को प्रमुखता प्राप्त है

ब्रिटिश गणितज्ञ और भौतिकी के जनक न्यूटन ने सार्वभौमिक गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत दिया था

सर आइजिक न्यूटन ने अपनी यह सिद्धांत 1664 में प्रस्तुति की थी।

इस सिद्धांत के अनुसार विश्वभर में चीजें एक दूसरे को एक विशेष बल के कारण अपनी ओर खींचती हैं

इसी सिद्धांत के द्वारा यह पता चलने वाला सका है कि सभी चीजें धरती की ओर गिरती हैं और क्यों सभी ग्रह सूर्य की चककर लगाए हैं।

बिजली यानी बिजली की खोज

 

मानव की महान खोजों में बिजली अर्थात् बिजली की खोज का स्थान प्रमुखता प्राप्त होता है।

यह खोज ने मनुष्य के जीवन में क्या परिवर्तन किए हैं शायद यह बता देना आवश्यक है।

मानव के इस महान खोज के जनक माइकल फारराडे हैं

1821 में माइकल फाररादे ने बताया कि अगर कोई तार से विद्युत प्रवाह हो रहा है तो और उसके पास मैग्नेट का एक सरड़ा रखा जाए तो तार चककर कटा लगगे।

इसी तथ्य से विद्युत मोटर की खोज हुई थी।

फर्राडे मेम्बिक क्षेत्र से तार में विद्युत पैदा करने वाले पहले व्यक्ति थे

उदविकास का सिद्धांत

मानव की महान खोजों में उदविकास का सिद्धांत मील का पत्थर है

1859 में ब्रिटेन के प्रकृति विद चार्ल्स डार्विन ने उदविकास की सिद्धांत दिया था।

यह वही विशिष्ट और महान सिद्धांत है जिसने पूरे विश्व के जीवन का उत्पत्ति विषयक सिद्धांत को पहली बार वैज्ञानिक तरीके से बताया था।

पहली बार हमें इसी सिद्धांत में यह समझाया गया था कि सभी जीवों की बहुत धीमी गति से विकास हुआ है।

इसी सिद्धांत ने हमें यह पहली बार बताया कि प्रकृति में परिवर्तन में जो जीवन में समाहित नहीं है, उसका विनाश हो जाता है।

यह पूरी दुनिया आज का सबसे उत्तम उत्तर जीविता का सिद्धांत नाम से जानती है।

एननेथीसीया की खोज

मानव की महान खोजों में एनेस्थीसिया की खोज में बेहद उच्चतम स्थान प्राप्त है

आप खुद को समझने के लिए दुखी होना करने के लिए इस दवा का विकास नहीं हो तो क्या हमारी चिकित्साशास्त्र आज इतनी उन्नति कर पाता?

इस महान खोज का श्रेय जाता है, अंग्रेजी सर्जन जोसेफ प्रीस्टले को

उन्होंने उसे बताया कि अगर किसी को नाइट्स आक्साइड सुघाई जाए तो उसे दर्द कम होगा।

बाद में यह सूत्र इस महान खोज का पहला कड़ी साबित हुआ।

डीएनए की खोज

28 फरवरी 1953 को अमेरिका के जेम्स वाटसन और इंग्लैंड के फ्रांसिस क्रिक ने इतिहास की महानतम खोजों में सबसे महत्वपूर्ण खोज करते हुए डीएनए सिद्धांत की रचना की थी।

दोनों वैज्ञानिकों ने डी ऑक्सी रईबो न्यू क्लीनिक एसिड की दोहरी कुंडली संरचना का पता लगाया था।

इन्हें ही दुनिया में पहली बार यह बताया गया कि आनुवंशिक गुण दोषों का उत्तरदायी ये डीएनए दो आपस में लिपटे हुए धागों की तरह संरचना के बने होते हैं।

पूरे विश्व में मनुष्य की जीन इन ही डीएनए की बनती हैं। 1 9 62 में इस नवाब खोज के लिए इन दोनों को नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया था

दुनिया भर के रोगों की समझ इसी खोज से विकसित हुई है।

जीवाणु की खोज

मानव की महान खोजों में जीवाणु की तलाश भी बेहद मायने रखती है।

सन् 1860 में फ्रांस के केमिकल शास्त्री लुई पोशर ने अति सूक्ष्म जीवों की खोज की थी

इन्हें आज हम बैक्टीरिया कहते हैं

इन सूक्ष्म जीवों की खोज से दुनिया को पहली बार पता चलता है कि बीमारियों का असली जड़ यही सूक्ष्म जीव है

इस खोज से ही आज लाखों जानें हर पल को बचाया जा सकता है

सापेक्षता का सिद्धांत

1 9 05 में वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने सापेक्षता की सिद्धांत दिया था

मानव की महान खोजों में इस सिद्धांत के अनुसार प्रकाश की चाल हमेशा एक जैसा होता है।

आइंस्टीन के सिद्धांत में चाल, समय और दूरी में एक संबंध स्थापित किया गया था

आज ही सिद्धांत पूरी दुनिया में आधुनिक विज्ञान का आधार बन गया है।

बिग बैंग थ्योरी

माना जाता है कि 13 • 7 अरब साल पूर्व एक महाविस्फोट के बाद हमारे विश्व में अस्तित्व आया है।

यह बिग बैंग सिद्धांत कहलाता है

1 9 27 में जॉर्ज लीमत्रे ने इस सिद्धांत की खोज की थी।

इनके अनुसार पूरे विश्व में एक सूक्ष्म बिंदू की तरह था

पेन्सिलिन की खोज

मानव की महान खोजों में पेंसिलिन की खोज बेहद महत्वपूर्ण स्थान है।

घातक जीवाणु को खत्म करने के लिए यह एक महान एंटीबायोटिक औषधि है

1 9 28 में अलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने इसकी खोज की थी

यह उनको अपना प्रयोग शाला में कूकर और फफूंद से तैयार किया गया था।

एक्स रे की खोज

18 9 5 में जर्मन भौतिक वैज्ञानिक विलेहेम रोएन्टजन ने एक्स रे की खोज की थी

इन किरणों का एक विशेष गुण यह होता है कि यह मांस और लकड़ी के पार जाते हैं।

लेकिन अस्थि और शीशे के पार नहीं जा पाती हैं तो इनका उपयोग टूटी बड्डी या फिर विस्फोटक पदार्थ की जांच में किया जाता है।

1 9 01 में पहला नोबल पुरस्कार इसी महान खोज का मिला था।

इनके अलावा ,,,

● मानव की महान खोजों में नील बोर का 1 9 22 का क्वांटम सिद्धांत

● 1850 का ग्रेगर जान मंडल का आनुवांशिकी सिद्धांत

● 1 9 83/84 फ्रांस के लुक माटेगियर और अमेरिका के रॉबर्ट गेलो की एचआईवी वी सर्च

● 1869 में रूसी वैज्ञानिकों की आवरती सारणी की तलाश में वे महान खोज हैं जिन पर दुनिया आज से कहां चली गई है।

धन्यवाद

लेखक

के पी सिंह ‘किर्तीखेड़ा’

04032018

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

8 COMMENTS

  1. बहुत ही अच्छी जानकारी । धन्यवाद केपी सरजी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here