तथ्यों के आइने में: पीजीटी समाज शास्त्र

4
212

तथ्यों के आइने में पीजीटी समाज शास्त्र 

तथ्यों के आइने में :पीजीटी समाज शास्त्र नामक यह लेख,उन लोगों के लिए लिखा जा रहा है, 

जो लोग उत्तर प्रदेश पीजीटी समाज शास्त्र परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं।

जी हांदोस्तों इस परीक्षा का आयोजन व संचालन

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड द्वारा एलन गंज इलाहाबाद से  किया जाता है।

जो लोग इस परीक्षा में सम्मिलित हो चुके हैं वे खूब अच्छी तरह से जानते हैं, 

लेकिन जो पहली बार शामिल होना चाहते हैं हम

उनके लिए बता दें कि इसके प्रश्न पत्र में कुल 125 प्रश्न होते हैं।

इनके चार विकल्पों में एक सही विकल्प का चयन करना पड़ता है।

लिखित परीक्षा में मेरिट बनती है उसी आधार पर इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है,

फिर इंटरव्यू के बाद फाइनल मेरिट बनती है अंतत:

फिर इसी के आधार पर चयन सुनिश्चित होता है।

विषय का चयन आपको करना होता है, आप चाहें

तो वह विषय ले सकते हैं जिसे आपने परास्नातक में पढा हो।

कुछ  विषयों के लिए कुछ खास निर्देश हैं, अतएव सावधानी रखनी चाहिए। 

पीजीटी समाज शास्त्र की तैयारी 

पी जी टी समाज शास्त्र की तैयारी हर साल लाखों लोग करते हैं,

लेकिन अफसोस इस बात का है कि सफलता सब को नहीं मिलती।

चंद लोगों को मिलने वाली सफलता का मतलब

यह है कि सफलता  उसी को मिलती है, जो हार्ड

वर्क की बजाय स्मार्ट वर्क करते हैं।

क्योंकि आज हकीकत यह है कि केवल हार्ड वर्क

या कठिन परिश्रम करने मात्र से नौकरी के दर्शन नहीं होते।

इसके लिए मन बचन कर्म से खुद को परीक्षा हेतु ढालना ही पड़ता है।

आपको लगता होगा कि 125 क्वेश्चन कुछ कठिन

कार्य नहीं है लेकिन आपको यह सच्चाई जरूर से

जरूर जान लेना चाहिए कि इतने सवाल लाखों मे एक ही कर पाते हैं। 

पीजीटी समाज शास्त्र तैयारी का पहला दिन पहला चैप्टर 

सच कहें, तो चाहे पीजीटी समाज शास्त्र प्रवक्ता भर्ती परीक्षा हो,

या कोई और परीक्षा ही क्यों न हो शुरुआत बहुत ही सही होनी चाहिए।

एक हकीकत यह भी है कि जब भी आप पीजीटी समाज शास्त्र की तैयारी करें,

तो इस बात का ख्याल जरूर रखें कि बेवजह ही

लोगों को लगा करता है कि इस विषय को पढने की जरुरत नहीं है।

जब कि यह एक घोर गलती है जिसे कम से कम

उस व्यक्ति को तो नहीं करनी चाहिए, जो इस लेख इन लाइनों को पढ रहे हैं।

हकीकत यह है कि इस विषय को ही नहीं बल्कि हर विषय को ईमानदार से पढना चाहिए।

जरा सोचिए जिस परीक्षा में चंद पदों के लिए हजारों लोग आवेदित होंं,

क्या हम उस परीक्षा में किसी तरह की कोई भी लापरवाही अपनी तरफ से कर सकते हैं। 

पीजीटी समाज शास्त्र की शुरुआत यहां से करें 

अगर आप एक गंभीर प्रतियोगी हैं तो सबसे पहले अच्छे स्तर की किताबों का कलेक्शन करें।

इसके बाद आप सबसे पहले समाज शास्त्र का विकास कैसे कब और क्यों हुआ?

के साथ ही साथ समाज शास्त्र क्या है इस का भी अध्ययन जरूर करें।

क्योंकि समाज  शास्त्र विषय आपको तभी समझ में आएगा,

जब आप अपनी तैयारी इन पाठों से प्रारंभ करेंगे।

आपको अपनी तैयारी इसी जगह से शुरू करनी है चाहिए।

याद रखें आप कुछ भी पढ़ लीजिए अगर आपने इस चैप्टर से शुरूआत नहीं की,

तो आप अपनी सफलता का परचम नहीं लहरा सकते। 

धन्यवाद

KPSINGH28062018

 

 

 

 

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here